15 august hindi shayari wallpaper ,whatsapp massage free download

15 august hindi shayari wallpaper ,whatsapp massage  free download .दोस्तों आप सभी को आज़ादी दिवस की बहुत बहुत वधाई ,दोस्तों इस ख़ुशी के मोके पर आपके लिए  बहुत सूंदर साइट त्यार की है जिसका लिंक   ,इस पर क्लिक कर अपना नाम लिखे और एक सुन्दर 15 अगस्त देशभगति सन्देश अपने दोस्तों को सबसे पहले  भेजें 



ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई |
मगर वतन से खूबसूरत …..कोई सनम नहीं होता |
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई |

मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता |

jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

दे सलामी इस तिरंगे को

जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं..!!!!

jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

Chalo fir se aaj woh nazara yaad kar le .
Shahido ke dil me thi vo jwala yaad karle !
Jisme behkar azadi pahuchi thi kinare pe .

Desh bhakto ke khoon ki vo dhara yad krle !

jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

जिन्हें है प्यार वतन से, 
वो देश के लिए अपना lahu बहाते हैं..!! 
माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर,

देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं..!!
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.


आन देश की, शान देश की,
 इस देश की हम संतान हैं !!
तीन रंगों से रंगा तिरंगा, 

अपनी yehi पहचान है !!
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.


उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई
जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है 
आज हम इसीलिए खुशहाल हैं
क्यूंकि सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है

jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

वो तिरंगे वाले DP हो तो लगा लेना…भाई जी…

सुना है 15 august देशभक्ति दिखाने  वाली तारीख हैं।
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

ऐ मेरे वतन के लोगों
तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ    दिन    है हम  सब  का
लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर
वीरों ने है प्राण गवाएं 
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

कुछ याद उन्हें भी कर लो 
जो लौट के घर न आये 
ऐ मेरे वतन के लोगों
ज़रा आँख में भर् लो पानी
जो शहीद हु हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

जब घायल हु हिमालय
खतरे में पड़ी आज़ादी
जब तक थी साँस लड़े वो
फिर अपनी लाश बिछा दी
संगीन पे धर कर माथा
सो गये अमर बलिदानी
jai hind.jai hind.jai hind.jai hind.jai hind.


जब देश में थी दीवाली
वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में
वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो आपने
थी धन्य वो उनकी जवानी
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं,
जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं।
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.

मेरा वजूद मेरे वतन से है,
मुझे गुरुर अपने वतन पे है,
चाहते होंगे लोग बहुत कुछ,
मेरी चाहत मेरी जिंदगी वतन से है
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.



सरहद पर ना कोई हिन्दू,
ना कोई मुस्लमान खड़ा हैं,
सवा करोड़ का दिल लेकर
सैनिक वीर जवान खड़ा हैं.
jai hind.jai hind..jai hind.jai hind.jai hind.


whatsapp  free massage  link > > click hare 

 8 total views,  5 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *