Sone Ka Lota Gnaga Jal Pani Bhajan Lyrics

Sone Ka Lota Gnaga Jal Pani Bhajan Lyrics  सोने के लोटा गंगाजल पानी, माई दोई बिरियाँ

सदा भवानी दाहिनी सन्मुख रहे गणेश
पांच देव रक्षा करे भ्रमा विष्णु महेश
करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ

सोने के लोटा गंगाजल पानी, माई दोई बिरियाँ
अतर चढ़े दो दो शीशियाँ, माई दोई बिरियाँ
माई दोई बिरियाँ

करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
लाये लदन वन से फुलवा, माई दोई बिरियाँ
हार बनाये चुन चुन कलियाँ
माई दोई बिरियाँ

करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
पान सोपारी ध्वजा नारियल, माई दोई बिरियाँ
धुप कपूर चढ़े चुनिया, माई दोई बिरियाँ
माई दोई बिरियाँ
करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
लाल वरन सिंगार करे, माई दोई बिरियाँ
मेवा खीर सजी थरिया
माई दोई बिरियाँ

करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
पांच भगत मिल जस तोरे गावे, माई दोई बिरियाँ
गुप्तेशवर की पीर हरो, माई दोई बिरियाँ
काटो बिपत की भई झरिया
माई दोई बिरियाँ

करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ
करे भगत हो आरती, माई दोई बिरियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *